कोरोना वायरस पर कविता |Poem on Coronavirus|

कोरोना वायरस पर बच्चों के लिए एक शिक्षाप्रद हिंदी कविता ऐसे लिखिए| hindi poem on corona virus. कोरोना वायरस के कारण फैली महामारी ने पूरी दुनिया को हिला दिया| कोरोना पर मनोरंजक कविता के माध्यम से आप अपने बच्चों को वास्तविक ज्ञान से अवगत करा सकते हैं और वह भी गाते- गुनगुनाते| यह कविता स्टूडेंट्स को बताती है कि कोरोना ने बच्चों, जवानों, व्यस्क और बुजुर्गों पर क्या प्रभाव डाला |

कोरोना वायरस पर कविता |Poem on Coronavirus|

टीचर बोली, कोरोना पर पांच पंक्तियां बताएँ,

लिखूंगा जबरदस्त, पर कहां से इंफॉर्मेशन लाएं???

मम्मी ,क्या है कोरोना?

बेटा, इसने दुनिया का निकाल दिया रोना |

पापा, कोरोना कहाँ से आया??

बेवकूफ, चीन का यह कीड़ा ले गया मेरी सारी माया|

टीचर बोली, कोरोना पर पांच पंक्तियां बताएँ,

लिखूंगा जबरदस्त, पर कहां से इंफॉर्मेशन लाएँ |

दीदी, कैसे होता है कोरोना आबाद ??

मास्क के चक्कर में मेरी सारी लिपस्टिक हो गई बर्बाद,

दादी माँ, क्या किया कोरोना ने ??

क्या बताऊं? बेटा, कर दिया घर में कैद,

कटता नहीं टाइम,

रह-रहकर याद आती है सैर,

टीचर बोली कोरोना पर पांच पंक्तियाँ बताएँ,

लिखूंगा जबरदस्त, पर कहां से इंफॉर्मेशन लाएँ|

अंत में सोचा, टीचर से ही पूछें

सुनो बच्चों, कोरोना की सीख

पर्यावरण मांगे तुमसे भीख

शाकाहारी बनो, रहो गंदगी मुक्त,

पहचानो इसे,यह तो है दुख के भेष में सुख||

Leave a Reply