भारत निर्माण पर हिंदी कविता

हमारा नवभारत

यह कविता आपको बताती है कि नए भारत में क्या बदलाव किये जाने चाहिए| किस तरह भारत का नवनिर्माण होना चाहिए| नए भारत का रूप किस प्रकार का होना चाहिए|

हमारा नवभारत- हिंदी कविता

आओ हम सब मिलकर करें, एक नव भारत का निर्माण करें

एक ऐसा भारत जिसमें ना कोई भूखा हो

और ना हो कोई गरीब,

सबके पास हो रोजी रोटी और छत करीब

किसानों को मिले उनकी पहचान,

उनका हो उचित मान-सम्मान

आओ हम सब…….

एक ऐसा भारत ……

जिसमें हो बस गुरुकुल,

जो हमें दे ऋषि मुनि जैसा ज्ञान,

करें हम सब मिलकर योग और ध्यान,

जिससे मानव जन का हो कल्याण

आओ हम सब…..

एक ऐसा भारत……..

जिसमें हो हमारी बहू बेटी सुरक्षित,

हो हर नारी का सम्मान

बिना किसी डर और आजादी के,

कर सके वह घर और बाहर का काम

आओ हम सब…..

एक ऐसा भारत…..

जिसमें न हो कोई भ्रष्टाचारी और न हो कोई आतंकवादी

निज-स्वार्थ त्याग कर सब मदद करें एक दूसरे की

जिसमें ना कोई सोचे तेरा -मेरा,

बस सोचे सबका भला

आओ हम सब…..

एक ऐसा भारत ….

जिसमें ना कोई हो कोल्ड ड्रिंक,

ना हो डिब्बाबंद जूस

हो तो बस नींबू पानी और ताजे फलों का जूस

मां के हाथों का हो ताजा ताजा खाना

न हो कोई फास्ट फूड

एक ऐसा भारत जिसमें हो प्रकृति हरी-भरी

पशु- पक्षी स्वच्छंद हो सभी हरे भरे खेतों की हरियाली हो,

चारों ओर खुशहाली हो

आओ हम सब मिलकर करें, एक ऐसे नवभारत का निर्माण

जिसे विश्व में मिले पहचान,

करे सब देश भारत का सम्मान।

एक ऐसे नवभारत का निर्माण।

एक ऐसे नवभारत का निर्माण।

-सरिता बंसल द्वारा स्वरचित

Leave a Reply