साइबर क्राइम पर निबंध |Essay on Cyber Crime in Hindi|

Table of Contents

इस आर्टिकल ‘साइबर क्राइम पर निबंध‘ में आप जानेंगे कि साइबर क्राइम का क्या मतलब है, साइबर अपराध के कारण और प्रकार | अंत में आप पढेंगे की साइबर क्राइम को कैसा रोका जा सकता है | आपने सुना होगा’सावधानी हटी, दुर्घटना घटी’ | ऑनलाइन अपराध से बचने का एकमात्र तरीका है- सावधान रहें, सतर्क रहें |

साइबर क्राइम पर निबंध

साइबर क्राइम पर निबंध Essay on Cyber Crime in Hindi

साइबर क्राइम पर निबंध |Essay on Cyber Crime in Hindi|

साइबर क्राइम क्या है? What is Cyber Crime in Hindi?

जब इंटरनेट, और कंप्यूटर की मदद से किया गया कोई भी काम जिससे कि दूसरे व्यक्ति को आर्थिक, शारीरिक, या मानसिक क्षति पहुंच सकती है तब उसे साइबर अपराध (Cyber Crime) का नाम दिया जाता है | यानी कि ऐसा अपराध जिसमें एक कंप्यूटर और एक इंटरनेट नेटवर्क शामिल होता है |

साइबर अपराध एक व्यापक शब्द है -यह एक छोटे से मज़ाक से लेकर देश की सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने तक की परिधि का हो सकता है | किसी व्यक्ति की कोई ऐसी हरकत जिससे दूसरे व्यक्ति की मान मर्यादा को नुकसान पहुंचे या कोई मानसिक व शारीरिक आघात पहुंचे; यह सभी साइबर क्राइम क्राइम के अंतर्गत आते हैं |

जब लोग किसी देश के खिलाफ साइबर अपराध करते हैं, तब साइबर क्राइम बहुत भयंकर रूप भी धारण कर सकता है, इतना भयंकर कि इसे साइबर आतंकवाद का नाम दे दिया जाता है|18 से 35 वर्ष की आयु के नौजवान इस साइबर अपराध से जुड़े हुए पाए गए हैं साल 2011 में साइबर क्राइम की दर बहुत बढ़ गई थी |

साइबर क्राइम के कारण (Reasons for Cyber Crime in Hindi)

आज दुनिया भर में लोग अपने बहुत से काम घर बैठे कर पा रहे हैं | ऐसा कैसे संभव हुआ ? यह संभव हुआ डिजिटलीकरण के कारण | आसान शब्दों में कहें, तो इंटरनेट के माध्यम से आज हम घर बैठे ही अपने बहुत से काम कर पा रहे हैं | इंटरनेट की मदद से आप बैंक में पैसा जमा करना, एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में ट्रांसफर करना, अपने बिजली, पानी और फ़ोन के बिलों का भुगतान करना, ऑनलाइन शॉपिंग करना, या कोई ऑनलाइन फॉर्म भरना | यह सब काम हम घर बैठे एक क्लिक के द्वारा पूरे कर सकते हैं |

इंटरनेट के सस्ता होने के कारण ऐसा संभव हो पाया है |आज ज्यादातर व्यक्तियों के हाथ में स्मार्टफोन है | शायद, आपने सुना होगा हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं | एक ओर, जहाँ ज्यादातर लोग तकनीक का फायदा उठा रहे हैं, कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जो उस तकनीक का दुरुपयोग करते हैं | वे उस तकनीक का इस तरीके से इस्तेमाल करते हैं जिससे दूसरों को नुकसान पहुंचाया जा सके | आइये,जानते हैं कैसे ?

कैसे ऑनलाइन क्लास में बच्चे टीचर्स को परेशान करते हैं- जानने के लिए पढ़िए पहली ऑनलाइन क्लास का अनुभव’

साइबर क्राइम के प्रकार (Types of cyber crime)

साइबर अपराध कई तरीके से किया जा सकता है | आइये, जानते हैं प्रचलित तरीकों के बारे में –

1. हैकिंग (Hacking)

सरल शब्दों में, हैकिंग एक घुसपैठिये द्वारा आपकी अनुमति के बिना आपके कंप्यूटर सिस्टम तक पहुंच बनाकर किया गया एक कार्य है। हैकर्स ( हैकिंग करने वाले लोग) मूल रूप से कंप्यूटर प्रोग्रामर होते हैं, जिन्हें कंप्यूटर की उन्नत समझ होती है और आमतौर पर इस ज्ञान का दुरुपयोग करते हैं | हैकिंग एक नेटवर्क के माध्यम से की जाती है, इसलिए इंटरनेट का उपयोग करते समय सुरक्षित रहना बहुत महत्वपूर्ण है।

2. वायरस का प्रसार

वायरस कंप्यूटर प्रोग्राम हैं जो खुद को सिस्टम या फाइलों से जोड़ते हैं। वे कंप्यूटर चालाने में बाधा पैदा करते हैं और संग्रहीत (saved) डेटा को प्रभावित करते हैं |

कंप्यूटर वायरस आमतौर पर हटाने योग्य मीडिया या इंटरनेट के माध्यम से फैलता है। एक फ्लैश डिस्क, सीडी-रॉम, मैग्नेटिक टेप या अन्य स्टोरेज डिवाइस जो एक संक्रमित कंप्यूटर में है | कंप्यूटर सिस्टम की सुरक्षा के लिए एंटी-वायरस टूल को विकसित करने और लागू करने के लिए व्यक्तियों, फर्मों और अधिकारियों द्वारा काफी खर्च किया जाता है।

3. फिशिंग

जिस प्रकार मछली पकडने के लिये कांटे में चारा लगाकर डाला जाता है और चारा खाने के लालच में आकर मछली कांटे में फँस जाती है। उसी प्रकार फ़िशिंग भी हैकर्स द्वारा इन्‍टरनेट पर नकली वेबसाइट या ईमेल के माध्‍यम से इन्‍टरनेट यूजर्स के साथ की गयी धोखेबाजी को कहते हैं। जिसमें वह आपकी निजी जानकारी को धोखेबाजी के माध्‍यम से चुरा लेते हैं और उसका गलत उपयोग करते हैं | क्रेडिट कार्ड नंबर और उपयोगकर्ता नाम पासवर्ड जैसी गोपनीय जानकारी निकालने की एक तकनीक है।

4. वेब जैकिंग

वेब जैकिंग का नाम “अपहरण” से लिया गया है। यहां, हैकर धोखाधड़ी करके वेब साइट पर नियंत्रण रखता है। वह मूल साइट की सामग्री को बदल सकता है। वेब साइट के मालिक के पास अधिक नियंत्रण नहीं रहता और हमलावर अपने स्वार्थ के लिए वेब साइट का उपयोग कर सकता है।

5. पहचान की चोरी और क्रेडिट कार्ड धोखाधड़ी

पहचान की चोरी तब होती है जब कोई आपकी पहचान चुरा लेता है और आपके नाम पर क्रेडिट कार्ड, बैंक खाते और अन्य लाभ जैसे संसाधनों तक पहुंचने का दिखावा करता है। अन्य अपराधों को करने के लिए भी आपकी पहचान का उपयोग कर सकते हैं।

6. सॉफ्टवेयर चोरी

इंटरनेट पाइरेसी हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है जो जाने या अनजाने में हम सभी में योगदान करते हैं। इंटरनेट और टॉरेंट्स के द्वारा आप किसी भी फिल्म, सॉफ्टवेयर या गाने को मुफ्त में पा सकते हैं। इस तरह, संसाधन डेवलपर्स के मुनाफे में कटौती की जा रही है। सॉफ्टवेयर पायरेसी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का अनधिकृत उपयोग और वितरण है। सॉफ्टवेयर डेवलपर्स इन कार्यक्रमों को विकसित करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं |

7. साइबर स्टैकिंग

स्टॉकिंग को हिंदी में आमतौर पर ‘पीछा करना’ कहा जाता है। साइबर क्राइम का ही एक चेहरा है साइबर स्टॉकिंग, जिसमें कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति का इंटरनेट के जरिए पीछा करता है और उसे हर तरह से नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है।
इसमें इंटरनेट के जरिए किसी की गतिविधियों पर नजर रखना, धमकी देना, उसके डेटा या उपकरण के साथ छेड़छाड़ करना और उन्हें नुकसान पहुंचाना, एब्यूजिंग, सेक्सुअल हरासमेंट, आदि शामिल है।

साइबर अपराध को कैसे रोकें (Essay on How to Stop Cyber Crime?)

  • सब कुछ अप टू डेट रखें- अधिकांश प्रमुख कंप्यूटर कंपनियां नई उभरती कमजोरियों से बचाने के लिए नियमित अपडेट जारी करती हैं। अपने सॉफ्टवेयर और ऑपरेटिंग सिस्टम को अपडेट रखें। इसे आसान बनाने के लिए, स्वचालित अपडेट चालू करें
  • मजबूत पासवर्ड रखें- पसंदीदा वाक्य से शुरू करने पर विचार करें और फिर प्रत्येक शब्द के पहले अक्षर का उपयोग करें। यदि आप चाहते हैं, तो जटिलता बढाने के लिए संख्या, विराम चिह्न या प्रतीक जोड़ें | फ़ैक्टरी में सेट किए गए किसी भी डिफ़ॉल्ट पासवर्ड को बदलना सुनिश्चित करें , जैसे कि आपके वाई-फाई राउटर या घरेलू सुरक्षा उपकरणों के इन बिल्ट पासवर्ड |
  • आपको अपने क्रेडिट को फ्रीज करने पर विचार करना चाहिए , जो किसी को भी आपकी व्यक्तिगत अनुमति के बिना आपके नाम पर क्रेडिट के लिए आवेदन करने से रोकता है ।
  • अपने डेटा का बैक-अप अपने पास सुरक्षित रखें | ताकि वेबसाइट चोरी होने की स्थिति में भी आपको ज्यादा परेशानी ना उठानी पड़े |
  • पब्लिक वाई-फाई के इस्तेमाल से सावधान रहें | सार्वजनिक वाई-फाई का उपयोग करते समय, आस-पास का कोई भी व्यक्ति जो उसी नेटवर्क से जुड़ा होता है, वह यह सुन सकता है कि आपका कंप्यूटर इंटरनेट पर क्या भेज रहा है और प्राप्त कर रहा है |
  • फ़ायरवॉल और एंटी वायरस सॉफ्टवेर का इस्तेमाल करें |
  • अज्ञात मूल की फाइलों को ना खोलें और समझ से काम लें |
  • सोशल मीडिया साइट्स पर अपनी निजी जानकारी को साझा ना करें |
  • साइबर कानून की जानकारी हासिल करें |

उपसंहार : साइबर क्राइम पर हिंदी निबंध

बेशक, साइबर क्राइम से बचने के लिए एक व्यक्ति या संगठन बहुत कुछ कर सकता है। सतर्क, सक्रिय और सूचित रहें |DuckDuckGo जैसे खोज इंजन उपयोगकर्ताओं या उनकी खोजों को ट्रैक नहीं करते हैं। Windows और Mac OS दोनों में निर्मित फ़ायरवॉल सॉफ़्टवेयर अलग से डाउनलोड किया गया है – जो आपके सिस्टम में वायरस और कीड़ों को अपना रास्ता बनाने से रोकने में मदद कर सकता है । इन कदमों को उठाकर, आपको साइबर अपराध को रोकने में मदद मिलेगी, जिससे सभी लोग ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से सुरक्षित हो सकते हैं |

आशा करते हैं कि साइबर क्राइम पर निबंध, (Essay on Cyber Crime in Hindi) आपको पसंद आये और परीक्षा में आपकी मदद हो सके |

Leave a Reply