कोरोना वायरस पर निबंध (हिन्दी में), Corona Virus Essay in Hindi

कोरोना वायरस पर निबंध – एक वैश्विक महामारी पर निबंध लिखो, Corona Virus Nibandh in Hindi, Covid 19 par hindi nibandh,

कोरोना वायरस पर निबंध

कोरोना वायरस पर निबंध (हिन्दी में)

कोरोना वायरस क्या है? What is Coronavirus in Hindi?

कोरोना वायरस एक नए प्रकार का विषाणु है जिसके संक्रमण से मरीज़ को खाँसी, जुखाम, व बुखार जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं | यदि यह संक्रमण गले से होता हुआ फेफड़ों तक पहुँच जाता है तो बीमार व्यक्ति की जान तक जा सकती है |

दिसंबर 2019 में चीन से शुरू होने वाला कोरोना वायरस का संक्रमण धीरे धीरे पूरे विश्व में फैल गया। इसके कारण होने वाली बीमारी को कोविड19 का नाम दिया गया। इसकी कोई दवाई या टीका (vaccine) न होने के कारण मार्च 2020 तक इस बीमारी ने विश्व के अधिकतर देशों को अपनी चपेट में ले लिया था। जिसके कारण डब्लूएचओ (WHO) ने इसे महामारी घोषित कर दिया।

“दो गज की दूरी
है बहुत जरूरी”

नरेंदर मोदी

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने साल 2020 में कोरोना वायरस के कारण फैली वैश्विक महामारी कोविड 19 से लड़ने के दौरान यह सुरक्षा कवच भारतीयों को दिया था।

कोरोना वायरस की शुरुआत कैसे हुई? How did Coronavirus start in Hindi?

ऐसा माना जाता है कि चीन के एक शहर, वुहान के माँस बाजार से यह बीमारी फैलनी शुरू हुई। एक मांसाहारी देश होने के कारण चीन के बाजारों में जिंदा जानवर काटे और बेचे जाते हैं। जानवरों के जिंदा काटे जाने के समय संक्रमण फैलने की आशंका सबसे ज्यादा होती है।

ऐसा माना जा रहा है की यह वायरस चमगादड़ों से आया है। चमगादड़ों की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होने के कारण यह वायरस उनके अंदर निष्क्रिय रूप में पड़ा रहता है। किंतु इंसान के शरीर में प्रवेश करते ही यह उनके फेफड़ों पर प्रभाव दिखाना शुरू कर देता है।
वुहान शहर के कारखानों में बहुत से इटली के लोग काम करते है। वहाँ से यह संक्रमण धीरे धीरे इटली और फिर अन्य देशों तक पहुंच गया। सबसे अधिक प्रभावित देशों में संयुक्त राज्य अमेरिका, इटली, जर्मनी, फ्रांस, भारत और पाकिस्तान का नाम है|

कैसे फैलता है कोरोना वायरस?

  • यह वायरस संक्रमित व्यक्ति से अन्य लोगों को फैल सकता है।
  • बीमार व्यक्ति की खाँसी या छींक के साथ जो बूंदे उसके मुँह या नाक से निकलती हैं उन बूंदों के संपर्क में आने वालों को यह बीमारी अपना शिकार बना लेती है | इसलिये मरीज़ से किसी भी तरह का सीधा सम्पर्क नही होना चाहिए |
  • लोगों को आपस में 6 फीट का एक दायरा बनाये रखना चाहिए| भीड़भाड़ वाली जगह में यह अधिक तेजी से फैलता है।
  • संक्रमित व्यक्ति द्वारा फेंका गया थूक कोरोना वायरस को फैलाने में अहम भूमिका निभाता है|
  • अच्छी बात यह है कि यह हवा में नहीं फैलता ।

कोरोना वायरस के लक्षण क्या हैं? Symptoms of Covid19 in Hindi

  1. गले में खराश और बुखार
  2. सूखी खाँसी के साथ साँस लेने में परेशानी
  3. साधारण जुखाम और फ्लू  के वायरसों में भी इसी तरह के लक्षण पाए जाते हैं, इसलिये इसका शुरु में पता लगाना मुश्किल है ।
  4. इस संक्रमण से ग्रसित होने के बाद मरीज के फेफड़े सिकुड़ जाते हैं और उसे सांस लेने में तकलीफ होती है जिसके कारण उसकी मृत्यु भी हो सकती है|
  5. कुछ लोगों को जोड़ों में दर्द की भी तकलीफ़ हो जाती है |

कोरोना वायरस किसके लिए सबसे अधिक खतरनाक

सरकारी सूत्रों के अनुसार 80% लोगों में यह बहुत ही मामूली लक्षण दिखाता है| केवल 4% लोगों के ही ज्यादा प्रभावित होने का खतरा है| जिनमें 60 साल से उम्र के बड़े लोग, बच्चे, मधुमेह के रोगी और कमजोर किडनी के मरीज शामिल हैं| दुनिया में अभी तक जितनी भी मौतें हुई हैं उनमें से ज्यादातर लोग 60 की आयु से ऊपर के पाये गये हैं।

कोरोना वायरस से बचने के उपाय

अति आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलें | अपने मुँह पर कोई कपड़ा बाँध लें या मास्क पहन लें | किसी भी वस्तु या व्यक्ति को छूने के बाद साबुन से रगड़ कर हाथ धोयें या सैनिटाइजर लगाएं | दूसरों से हाथ न मिलाएं और किसी से सटकर न खड़े हों|

“जान है तो जहान है “

लॉक डाउन से कोविड 19 से छुटकारा

विश्व भर के डॉक्टर कोविड १९ से बचाने की दवाई ढूँढने में लगे हुए हैं| अभी इससे बचने का केवल एक ही रास्ता है- सामाजिक अलगाव (Social Distancing)| लोगों को भीड़ से दूर रखने के लिए सभी देशों ने देश बंदी (लॉक डाउन ) का सहारा लिया| भारत में ३-४ चरणों में ३ महीने का लॉक डाउन किया गया| जबकि ऑस्ट्रेलिया ने एक ही बार में ३-६ महीने के बंद का आदेश दे दिया|

न चाहते हुए भी सभी नागरिकों को घरों में बंद रहना पड़ता है| लॉक डाउन की वजह से सभी का जीवन अस्त-व्यस्त हो गया | जानिये कैसे विश्व बंदी ने इंसान के जीवन पर मिला जुला असर डाला | जब लोग एक दूसरे से नहीं मिलेंगे तब ही यह बीमारी समाप्त हो पाएगी|

उपसंहार- ‘कोरोना वायरस का निबंध हिंदी में’

“सब दिन होत ना एक समाना ” अर्थात सभी दिन एक जैसे नहीं होते | जब अच्छे दिन स्थायी नहीं हैं तो बुरे दिन भी बीत जायेंगे | सभी को मिलकर इस कोरोना वायरस का नामोनिशान मिटाना है | हमें बीमारी से लड़ना है, बीमार से नहीं | यह समय शारीरिक दूरी बढ़ाने और दिलों की दूरी घटाने का है | अपने आस पास के ज़रूरतमंद मनुष्यों की मदद करनी चाहिए ताकि कोई भी कोरोना से होने वाली बीमारी ; कोविड 19 का ग्रास न बनने पाए |

Leave a Reply