What is Art Integration Project in Hindi | आर्ट इन्टीग्रेशन क्या होता है

What is Art Integration Project in Hindi | आर्ट इंटीग्रेशन क्या है

आर्ट इंटीग्रेशन गंभीर विषयों को पढ़ाने का एक नया तरीका है। जिसमें कला के विभिन्न रूपों को टीचिंग टूल के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। पढ़ाई के इस तरीके का मुख्य उद्देश्य एक विशेष कला की बारीकियों को सिखाना नहीं है बल्कि इसमें कला के बेसिक ज्ञान का इस्तेमाल करते हुए मुश्किल विषयों को आसान बना कर पढ़ाया जाता है। इससे मुश्किल और भारी-भरकम दिखने वाले subject आसान बन जाते हैं और सीखने वाले पर गहरा प्रभाव छोड़ते हैं।

असल मायने में यह तरीका नया नहीं है। भारत में तो यह तरीका सदियों से इस्तेमाल किया जा रहा है । जैसे राजा महाराजाओं के समय में नुक्कड़ नाटक के द्वारा किसी खास बात या संदेश को जनता तक पहुंचाया जाता था। सभी जानते हैं कि रामायण और महाभारत महाकाव्य है। इतनी बड़ी कथा को गीतों के माध्यम से गाकर आम जनता तक इस कदर पहुंचाया गया है कि यह उनके जीवन का एक हिस्सा बन गई है।

दूसरे शब्दों में, आप किसी एक पेज के गीत को आसानी से याद कर लेते हैं क्योंकि उसके बोल एक कविता के अंदाज में लिखे गए हैं और उसके साथ-साथ उसे संगीत का सहारा मिल रहा है, जिससे आप उसे बार-बार सुनते रहते हैं, या दोहराते रहते हैं तो वह आपको पक्के से याद हो जाती है। बजाय इसके अपनी स्कूल की किसी किताब के एक पन्ने के जवाब को याद करना आपको बड़ा भारी हो जाता है। इसीलिए पढ़ाई को आसान बनाने के लिए इन तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है। जहां पर किसी एक विषय को गीत-संगीत, नृत्य, नुक्कड़ नाटक आदि के माध्यम से प्रस्तुत किया जाता है।

टेक्नोलॉजी का उपयोग कर आजकल हम कुछ आधुनिक तरीकों से भी आर्ट इंटीग्रेशन कर सकते हैं जैसे कि सीधी-सादी दो पेज की बात को कंप्युटर में प्रेजेंटेशन में 10 slides के रूप में थोड़ी पिक्चर लगा कर और शब्दों को रंग बिरंगे रूप में लिखकर पेश किया जा सकता है। इसी प्रकार बच्चों को वाद-विवाद या वार्तालाप सिखाने के लिए कार्टून या पिक्चर का सहारा लेकर डायलॉग राइटिंग या वाद-विवाद सिखाया जा सकता है। इसी दिशा में सीबीएसई ने भारत के स्कूल में इसे जरूरी तौर पर लागू कर दिया ताकि बच्चों में रटने की आदत छूट जाए और वे बातों को गहराई से समझें।

इसके अलावा art integration से दो उद्देश्य पूरे हो रहे हैं। एक तो उपयोग की गई कला का बेसिक ज्ञान मिल रहा है और दूसरी ओर जो मुख्य विषय है उसे विद्यार्थी गहराई से समझ सकता है। इसी दिशा में उठाया गया कदम है – एक भारत श्रेष्ठ भारत प्रोग्राम के तहत विभिन्न राज्यों को आपस में जोड़ना। विभिन्न स्कूलों में कल्चरल एक्सचेंज प्रोग्राम शुरू किया जिससे दोनों ही राज्यों के बच्चे एक दूसरे के राज्यों के बारे में नई बातें सीखेंगे।

Art Integration में किस तरह की activities शामिल हैं? Home state और paired स्टेट के बीच निम्नलिखित तरीकों से बातचीत को बढ़ावा दिया जाता है –

  • दोनों राज्यों के विद्यार्थियों के बीच ऑनलाइन वार्तालाप
  • प्रसिद्ध लोकगीत एवं फिल्मी गाने गाना
  • फिल्मों के dialogue को दूसरे की भाषा में बुलवाना
  • दूसरे राज्य की भाषा में शब्दों के अर्थ जानना
  • त्योहारों के आरे में विशेष बातें पूछना
  • प्रसिद्ध recipes के फायदे जानना
  • दूसरे राज्य की वेश भूषा के बारे में पूछना
  • कलाकारों के बारे में बात करना
  • मौसम के बारे में जानकारी इकट्ठा करना
  • मुहावरों का अर्थ जानना
  • किताबों और लेखकों की जानकारी

Ek Bharat Shreshtha Bharat Programme में इन राज्यों को आपस में जोड़ा गया है:

  1. Jammu & Kashmir
  2. Tamil Nadu & Andhra Pradesh
  3. Himachal Pradesh & Kerala
  4. Uttarakhand & Karnataka
  5. Haryana & Telangana
  6. Rajasthan  & West Bengal
  7. Gujarat & Chhattisgarh
  8. Maharashtra & Odisha
  9. Goa & Jharkhand
  10. Delhi  & Sikkim & Assam
  11. Madhya Pradesh & Manipur & Nagaland
  12. Uttar Pradesh & Arunachal Pradesh & Meghalaya
  13. Bihar & Tripura & Mizoram
  14. Chandigarh & Dadra & Nagar Haveli
  15. Puducherry & Daman & Diu
  16. Lakshadweep & Andaman & Nicobar

Art Integration Project- Culture of Sikkim and Delhi
Dialogue Writing about Sikkim Recipe THUKPA

अक्सर कहा जाता है कि art और science दो बिल्कुल अलग विषय है और इन्हें कभी आपस में जोड़ा नहीं जा सकता। लेकिन ऐसा सोचना शायद सही नहीं है। Albert Einstein बहुत बड़े scientist होने के साथ साथ एक अच्छे violinst भी थे। वे कहते थे – “I practise violin to keep my mind sharp.” इसके अतिरिक्त यह भी देखा गया है कि बड़े वैज्ञानिक अच्छे कलाकार भी थे। इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कला के साथ विभिन्न विषयों को जोड़ा जाए तो बेहतर परिणाम मिल सकते है। कला के माध्यम से विषय वस्तु के साथ के साथ बेहतर जुड़ाव संभव है जिससे आप अपने टॉपिक को सही तरीके से समझ पाते हैं।

Leave a Comment

%d bloggers like this: